Jan 1, 2008

दीदी यह अनेक क्या होता है ?
अनेक .. अनेक यानि बहुत सारे
जैसे ..
सूरज एक ...
चन्दा एक ..
तारे अनेक ...
अच्छा तो तारों को अनेक भी कहते हैं ????
नहीं नहीं !!
देखो फ़िर से बताती हूँ .
सूरज एक ..
चन्दा एक ..
तारे अनेक ....
एक गिलहरी ..
एक और गिलहरी ..
एक एक एक करके हो गई अब अनेक गिलहरियाँ ..
एक तितली , अनेक तितलियाँ ...
एक चिड़िया, एक एक अनेक चिड़ियॉ

अनेक चिडियों की कहानी सुनोगे ....
हाँ सुनाओ
एक चिड़िया अनेक चिड़िया ....
दाना चुगने बैठ गयी थी .....
chorus : दीदी हमें भी सुनाओ .......
फिर से सुनो ...

एक चिड़िया , अनेक चिड़ियाँ
दाना चुगने बैठ गयी थी .....
वहीं एक ब्याध ने जाल बिछाया था ...
ब्याध , ब्याध क्या होता है दीदी ?
ब्याध ... चिड़िया पकड़ने वाला
तो फिर क्या हुआ , उसने चिडियों को पकड़ लिया , ...
उन्हें मार दिया ......
उन ..हूह ...

हिम्मत से जो जुटे रहे तो बड़ा काम भी होवे
भइया .. बड़ा काम भी
होवे भइया ...
1..2..3.. फुर्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र
चतुर चिड़ियाँ सयानी चिड़ियॉ ,
मिलजुल कर , जाल ले कर ...
भागी चिड़ियॉ ....
फुर्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र


दूर एक गाँव में चिडियों के दोस्त चूहे रहते थे ....
उन्होंने उनका जाल काट दिया .........
देखा एकता में कितनी शक्ति है ......
दीदी अगर हम एक हो जाएं तो क्या कोई भी काम कर
सकते हैं ?
हाँ हाँ क्यों नही ...
तो क्या इस पेड़ के आम भी तोड़ सकते हैं ???
हाँ मगर जुगत लगनी होगी ...
जुगत ???

*
* *
* * *
* * * *

अच्छा ये जुगत .... वह बड़ा मज़ा आएगा ....
हो गए एक ...
बन गयी ताकत ..
बन गयी हिम्मत ...

हिंद देश के निवासी सभी जन एक हैं , -2
रंग -रूप वेश -भाषा चाहे अनेक हैं -2> > ---- ...
बेला गुलाब जूही चंपा चमेली ..... -2
फूल हैं अनेक किंतु माला फिर एक है ...-2>
एक -अनेक -एक अनेक
सूरज एक , चन्दा एक , तारे अनेक ,
एक गिलहरी , अनेक गिलहरियाँ ,
एक तितली , अनेक तितलियाँ ,
एक चिड़िया , अनेक चिड़ियॉ ......
अरे बेला गुलाब जूही चंपा चमेली .. -2
फूल हैं अनेक किंतु माला फिर एक हैं .....2