Jan 2, 2009

सादर नमस्कार

सादर नमस्कार


I like


कश्मीर तुम्हारे आँगन में हम पुष्प चढ़ाने आयेगे,
खेली है होली खूनों से हम दीप जलाने आयेगे|
जो घाटी कल तक गुलशन थी नावों में मंगल होते थे,
कितनें ही नव दम्पत्तियों के भाग्य के लेखे बनते थे|
कश्मीर आज वीरान हो तुम फिर से आवाद बनायेगे,
खेली है होली खूनों से हम दीप जलाने आयेगे|
ऊँचा मस्तक ऊँची चोटी वक्षस्थल जिसका तना हुआ.
पानी बरसे या चले बरछी जिसने सब कुछ है बहुत सहा|
कश्मीर तुम्हारे द्वार पर हम बन्दनबार लगायेगे,
खेली है होली खूनों से हम दीप जलाने आयेगे|