May 26, 2010

वीर सावरकर


आज ऑफिस से आते हुए एक सूचना पट पर देखा की वीर सावरकर जी के जन्मदिन के उपलक्ष्य में एक कवि सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है। देख के यह जिज्ञासु मन सोचने लगा की इस महान स्वतंत्रता सेनानी के बारे में हमें कितनी कम जानकारी मिलती है। क्योंकि सावरकर जी एक विशेष राजनीतिक दल के सदस्य नहीं थे इसलिए उनके बारे में बच्चो को पढाया ही नहीं जाता । क्या भारत का इतिहास किसी राजनीति दल का मोहताज है ?
क्या भारत का सवतंत्रता संग्राम पूरे देश का न होके केवल एक राजनितिक दल का कार्यकर्म था की जिसने इस दल के साथ काम नहीं किया तो उसका योगदान इतना कम हो गया की वोह इतिहास की किताब से ही गायब कर दिया गया?

शर्म आनी चाहिए हम लोगों को .... सावरकर जैसे देश भक्तो को भूल गये ....

आपका जिज्ञासु
सौरभ शर्मा