Jul 7, 2015

Bhagwat Gita Ch. 1 – verse 12

Bhagwat Gita

तस्य संजनयन्हर्षं कुरुवृद्ध पितामह: |
सिंहनादं विनद्योच्चैः शङ्खद्ध्मौ प्रतापवान् || १२ ||

Tasya sanjanayan harsham kuru-vrddhah pitamahah
Simha-nadam vinadyoaccha sankham dadhamau pratapavaan
Ch. 1 – verse 12

तब कुरुवृद्ध प्रतापवान भीष्म पितामह ने दुर्योधन के हृदय में हर्ष उत्पन्न करते हुये उच्च स्वर में सिंहनाद किया और शंख बजाना आरम्भ किया।