Jul 9, 2015

Bhagwat Gita Ch. 1 – verse 14

Bhagwat Gita

ततः श्वेतैर्हयैर्युक्ते महति स्यन्दने स्थितौ |
माधवः पाण्डवश्चैव दिव्यौ शङ्खौ प्रदध्मतुः || १४ ||

Tatah svetairhayair yukte mahati syandane sthitau
Madhavah pandavas chaiv divyam shankhau pradadhmatuh
Ch. 1 – verse 14

तब श्वेत अश्वों से वहित भव्य रथ में विराजमान भगवान माधव और पाण्डव पुत्र अर्जुन नें भी अपने अपने शंख बजाये।