Jul 16, 2015

Bhagwat Gita Ch. 1 – verse 22

Bhagwat Gita

अर्जुन उवाच
सेनयोरुभयोर्मध्ये रथं स्थाप्य मेsच्युत |
यावदेतान्निरिक्षेऽहं योद्ध्कामानवस्थितान कैर्मया सह योद्धव्यमस्मिन् रणसमुद्यमे || २२ ||

Ch. 1 – verse 22

अर्जुन बोले:
हे अच्युत, मेरा रथ दोनो सेनाओं के मध्य में स्थापित कर दीजिये ताकी मैं युद्ध की इच्छा रखने वाले इन योद्धाओं का निरीक्षण कर सकूं जिन के साथ मुझे युद्ध करना है।

No comments:

Post a Comment