Jul 20, 2015

Bhagwat Gita Ch. 1 – verse 24

Bhagwat Gita

सन्जय उवाच
एवमुक्तो हृषीकेशो गुडाकेशेन भारत |
सेनयोरुभयोर्मध्ये स्थापयित्वा रथोत्तमम् || २४ ||

Sanjay uvacha:
Evmukto hrishikesho gudakeshen bharat
Senyorubhyormdhay sthapyitva rathottamam
Ch. 1 – verse 24

संजय बोले :
हे भारत (धृतराष्ट्र), गुडाकेश के इन वचनों पर भगवान हृषिकेश नें उस उत्तम रथ को दोनों सेनाओं के मध्य में स्थापित कर दिया।