Aug 19, 2015

Bhagwat Gita Ch. 1 Verse 44

Bhagwat Gita

अहो बत महत् पापं कर्तुं व्यवसिता वयं  |
यद् राज्यसुखलोभेन हन्तुं स्वजनमुद्यताः  || ४४ ||

अहो ! हम इस महापाप को करने के लिये आतुर हो यहाँ खडे हैं। राज्य और सुख के लोभ में अपने ही स्वजनों को मारने के लिये व्याकुल हैं।   || ४४ ||