Aug 25, 2015

Bhagwat Gita Ch. 1~ Verse 46

Bhagwat Gita

संजय उवाच
एवमुक्त्वार्जुनः संख्ये रथोपस्थ उपाविशत् |
विसृज्य सशरं चापं शोकसंविग्नमानसः || ४६ ||

 संजय बोले:
यह कह कर शोक से उद्विग्न हुए मन से अर्जुन अपने धनुष बाण छोड़
 कर रथ के पिछले भाग में बैठ गये || ||

|| इति विषाद योग अध्याय समाप्त ||