Aug 25, 2015

Bhagwat Gita ch. 2 ~ verse 1

Bhagwat Gita

संजय उवाच
तं तथा कृपयाविष्टमश्रुपुर्णाकुलेक्षणम् |
विषीदन्तमिदं वाक्यमुवाच मधुसूदन:  || २ - १ ||

 संजय बोले:

तब चिंता और विषाद में डूबे अर्जुन को, जिनकी आँखों में आंसू भर आये थे , मधुसूदन ने यह वाक्य कहे  || ||